Our Demands

by thedeathofmerit

alt

 The large number of suicides by Dalit students in Indian educational system, especially in premier science and professional colleges and universities, are a mere pointer towards the widespread prevalence of various forms of caste-discrimination and humiliations that our students have to undergo on a regular basis while pursuing their higher education.

The testimonies of Balmukund Bharti’s parents and family members in the documentary ‘The Death of Merit’ also prove the kind of mental torture and harassment our students have to go through just because they belong to the ‘wrong’ castes.

Therefore, on behalf of all Dalit and Adivasi students, we demand the Government of India to

• Order investigation into the suicides of Linesh Mohan Gawle (NII) and Balmukund Bharti  (AIIMS)

• Appoint an enquiry committee to probe into students’ suicides in Indian campuses

• Appoint a judicial commission to enquire about the prevalence of various forms of caste-discrimination in higher education and to come out with stringent measures to prevent such happenings and for punishing the guilty faculty members, students and administration.

• Take steps for immediate implementation of recommendations made by Prof Thorat Committee report and we also demand exemplary punishments for faculty members and students who were involved in harassing our students in AIIMS as per the committee report.

If these demands are not met by the Indian government by 31st May, 2011, the Dalit and Adivasi students and youth will be forced to start a nation-wide agitation from June 1.

We, the Dalit and Adivasi students and youth, are now determined to make our campuses caste-discrimination free and will go to any extent possible to assert our constitutional right of pursuing education in free and fair manner. 

Read the discussion here.

Other Related Articles

बुद्ध पूर्णिमा पर बुद्ध के दुश्मनों को पहचानिए
Tuesday, 09 May 2017
  संजय जोठे (Sanjay Jothe) बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर बुद्ध के सबसे पुराने और सबसे... Read More...
मैं परस्पर सम्मान या जन सम्मान की राजनीति के पक्ष में हूँ: अशोक भारती
Saturday, 06 May 2017
  संजय जोठे (Sanjay Jothe) अशोक भारती, संक्षिप्त परिचय: अशोक भारती नेशनल कन्फेडरेशन... Read More...
Nilesh Khandale's short film Ambuj - Drop the pride in your caste
Saturday, 29 April 2017
Gaurav Somwanshi Nilesh Khandale’s debut short movie, ‘Ambuj’ seeks to shed light on some of the most pervasive but less talked about elements of the Indian caste society. Working as an Event... Read More...
भारतीय शास्त्रीय कलाएं और सामाजिक सरोकार
Saturday, 29 April 2017
  संजय जोठे (Sanjay Jothe) भारतीय कलाकारों, खिलाड़ियों, गायकों नृत्यकारों के... Read More...
Somnath Waghamare’s ‘Battle of Bhima Koregaon: An Unending Journey’
Saturday, 22 April 2017
  Rohan Arthur Last week, I went to watch Somnath Waghamare's film, 'The Battle of Bhima Koregaon: An Unending Journey' at Alternative Law Forum, Bangalore. This was the second screening of the... Read More...

Recent Popular Articles

The Janeyu in My News Story
Thursday, 01 December 2016
  Rahi Gaikwad Years ago, while studying journalism, a remark made by a foreign national classmate during a class discussion on caste has stuck in my mind till date. From what I remember, she... Read More...
हिन्दू भगवानो को परेशान मत कीजिये, रविदास बुद्ध कबीर से मार्गदर्शन लीजिये
Friday, 24 February 2017
  Sanjay Jothe परम संत रविदास का नाम ही एक अमृत की बूँद के जैसा है. जैसे भेदभाव,... Read More...
रोमांच, मनोरंजन और ब्राह्मणवादी प्रतीक
Thursday, 09 February 2017
  Sanjay Jothe रहस्य रोमांच के बहाने मनोरंजन की तलाश करते समाजों या लोगों पर कभी... Read More...
भारतीय साहित्य, सिनेमा और खेल की सामाजिक नैतिकता का प्रश्न
Friday, 03 February 2017
  Sanjay Jothe  कला और सृजन के आयामों में एक जैसा भाईचारा होना चाहिए जो कि भारत में... Read More...
भविष्य की दलित-बहुजन राजनीति: जाति से वर्ण और वर्ण से धर्म की राजनीति की ओर
Thursday, 16 March 2017
  Sanjay Jothe उत्तर प्रदेश के चुनाव परिणाम जितने बीजेपी के लिए महत्वपूर्ण हैं... Read More...

Recent Articles in Hindi

पेरियार से हम क्या सीखें?

पेरियार से हम क्या सीखें?

  संजय जोठे  इस देश में भेदभाव और शोषण से भरी परम्पराओं का विरोध करने वाले अनेक विचारक और क्रांतिकारी हुए हैं जिनके बारे में हमें बार-बार पढ़ना और समझना चाहिए. दुर्भाग्य से इस देश के शोषक वर्गों के षड्यंत्र के कारण इन क्रांतिकारियों का जीवन परिचय और समग्र कर्तृत्व छुपाकर रखा जाता है. हमारी अनेकों पीढियां इसी षड्यंत्र में जीती आयीं हैं. किसी देश के उद्भट विचारकों और क्रान्तिकारियों को इस...

Read more

कृष्ण: भारतीय मर्द का एक आम चेहरा...!

कृष्ण: भारतीय मर्द का एक आम चेहरा...!

(कृष्ण की लोक लुभावन छवि का पुनर्पाठ!)मानुषी आखिर ये मिथकीय कहानियां किस तरह की परवरिश और शिक्षा देती हैं, जहां पुरुषों को सारे अधिकार हैं, चाहे वह स्त्री को अपमानित करे या दंडित, उसे स्त्री पलट कर कुछ नहीं कहती। फिर आज हम रोना रोते हैं कि हमारे बच्चे इतने हिंसक और कुंठित क्यों हो रहे हैं। सारा दोष हम इंटरनेट और टेलीविजन को देकर मुक्त होना चाहते हैं। जबकि स्त्री...

Read more

राष्ट्रवाद और देशभक्ति

राष्ट्रवाद और देशभक्ति

संजय जोठे धर्म जो काम शास्त्र लिखकर करता है वही काम राष्ट्र अब फ़िल्में और विडिओ गेम्स बनाकर बनाकर करते हैं. इसी के साथ सुविधाभोगी पीढ़ी को मौत से बचाने के लिए टेक्नालाजी पर भयानक खर्च भी करना पड़ता है ताकि दूर बैठकर ही देशों का सफाया किया जा सके, और यही असल में उस तथाकथित “स्पेस रिसर्च” और “अक्षय ऊर्जा की खोज” की मूल प्रेरणा है, यूं तो सबको...

Read more