शुक्रिया बाबा साहेब

 

Gurinder Azad गुरिंदर आज़ाद

शुक्रिया बाबा साहेब !
आपके चलते
हमें किसी से कहना नहीं पड़ता
कि हम भी इंसान हैं !

gurinders tribute

उनके अहं को जो भी हो गवारा
लेकिन अब तस्दीक हो चुका है
कि बराबरी थाली में परोस कर नहीं मिलती
आबरू की धारा किसी वेद से नहीं निकलती
बड़ा बेतुका है
कल्पना करके सोना
सुबह अलग सा कोई नज़ारा होगा
या धीरे धीरे सब सही हो जायेगा
अपनेआप !

कुछ मुद्दों पर कोई बहस नहीं होती
जैसे रियायतों में ढला इन्साफ
वेदों धर्मों के मुंह से कंटी छँटी इंसानियत का जाप

कुछ चीज़ों से समझौते नहीं हो सकते
जैसे कि भगवी विचारधारा से

कुछ लड़ाईयां जड़ों की होती हैं
ज़मीन से जुडी होती हैं
वजूद में पिघली होती है
आज हम इन सबसे
खूब आशना हैं !

शुक्रिया बाबा साहेब कि आपके चलते
मैं ये सब लिख पा रहा हूँ
डंके की चोट पे !

~~~

Other Related Articles

जे.एन.यू. में ब्राह्मणवाद की खेती: जितेन्द्र सुना
Monday, 27 March 2017
  जितेन्द्र सुना मुथुकृष्ण्न की संस्थानिक हत्या के विरोध में 16 मार्च,... Read More...
Institutional Discrimination in Academic Agrahara
Tuesday, 21 March 2017
  Bansidhar Deep "When equality is denied everything is denied. There is no equality in M.Phil/Ph.D admission, there is no equality in viva-voce, there is only denial of equality, denying prof.... Read More...
The Death of a Historian in Centre for Historical Studies, JNU
Sunday, 19 March 2017
  Jitendra Suna Speech made at the protest by BAPSA on 16th March, 2017 against the Institutional Murder of Muthukrishnan (Rajini Krish) I am Jitendra Suna, and I am from a remote village named... Read More...
Indian Academia and Institutional Injustice
Sunday, 19 March 2017
  B. Prabakaran JNU has been celebrated for critical thinking, political activism and regarded as one of the premier institutions for higher education and excellence in research. Students also... Read More...
Reject ABVP’s diabolical fascist agenda on the institutional murder of Rajini Krish
Saturday, 18 March 2017
   BAPSA, JNU The appalling pamphlet put out by ABVP calling for a protest outside CHS against Rajini Krish's death is absolutely uncalled for. We unequivocally reject the politically... Read More...

Recent Popular Articles

In the name of the Nation: Historicizing Caste in Indian Universities
Thursday, 01 December 2016
  Nidhin Shobhana In the name of the Nation: Historicizing Caste in Indian Universities (with special reference to Jawaharlal Nehru University) Setting up the Stage The 'idea' of a... Read More...
Wherever Caste exists in the World, Ambedkar and Marx will remain Irreconcilable
Wednesday, 30 November 2016
  Dr Manisha Bangar NVP BAMCEF In India, and wherever in the world Caste exists, Ambedkar and Marx will remain Irreconcilable. Starting from the happenings in Hyderabad Central University in... Read More...
Caste and the Aporias of Muslim Theo-Politics
Tuesday, 11 October 2016
  This is the second part of the three-part series 'Dialogue with BAPSA'. Please read the first part here.  Khalid Anis Ansari In the context of the dialogue with BAPSA on its problematic... Read More...
Pandit Patwardhan's Jai Bhim Comrade: A Case Study in Brahminism
Sunday, 02 October 2016
  Dhurwa R. Anand Patwardhan’s Jai Bhim Comrade is one of the best examples of how brahminical powerplay makes a farce out of the most hard fought battles put up by Dalits, and does that... Read More...
How egalitarian is EPW?
Thursday, 12 January 2017
  Dilip Mandal "You never really understand a person until you consider things from his point of view. Until you climb into his skin and walk around in it." – Barack Hussain Obama, quoting... Read More...

Recent Articles in Hindi

पेरियार से हम क्या सीखें?

पेरियार से हम क्या सीखें?

  संजय जोठे  इस देश में भेदभाव और शोषण से भरी परम्पराओं का विरोध करने वाले अनेक विचारक और क्रांतिकारी हुए हैं जिनके बारे में हमें बार-बार पढ़ना और समझना चाहिए. दुर्भाग्य से इस देश के शोषक वर्गों के षड्यंत्र के कारण इन क्रांतिकारियों का जीवन परिचय और समग्र कर्तृत्व छुपाकर रखा जाता है. हमारी अनेकों पीढियां इसी षड्यंत्र में जीती आयीं हैं. किसी देश के उद्भट विचारकों और क्रान्तिकारियों को इस...

Read more

कृष्ण: भारतीय मर्द का एक आम चेहरा...!

कृष्ण: भारतीय मर्द का एक आम चेहरा...!

(कृष्ण की लोक लुभावन छवि का पुनर्पाठ!)मानुषी आखिर ये मिथकीय कहानियां किस तरह की परवरिश और शिक्षा देती हैं, जहां पुरुषों को सारे अधिकार हैं, चाहे वह स्त्री को अपमानित करे या दंडित, उसे स्त्री पलट कर कुछ नहीं कहती। फिर आज हम रोना रोते हैं कि हमारे बच्चे इतने हिंसक और कुंठित क्यों हो रहे हैं। सारा दोष हम इंटरनेट और टेलीविजन को देकर मुक्त होना चाहते हैं। जबकि स्त्री...

Read more

राष्ट्रवाद और देशभक्ति

राष्ट्रवाद और देशभक्ति

संजय जोठे धर्म जो काम शास्त्र लिखकर करता है वही काम राष्ट्र अब फ़िल्में और विडिओ गेम्स बनाकर बनाकर करते हैं. इसी के साथ सुविधाभोगी पीढ़ी को मौत से बचाने के लिए टेक्नालाजी पर भयानक खर्च भी करना पड़ता है ताकि दूर बैठकर ही देशों का सफाया किया जा सके, और यही असल में उस तथाकथित “स्पेस रिसर्च” और “अक्षय ऊर्जा की खोज” की मूल प्रेरणा है, यूं तो सबको...

Read more