'बाबासाहब अंबेडकर मेरे लिए क्या मायने रखते हैं ' शीर्षक पर लेख आमन्त्रित हैं

 

Round Table India

बाबा साहिब के जीवन और उनकी उपलब्धियों को मनाने के लिए किसी ख़ास अवसर की ज़रूरत नहीं है, उनका उदय एक चेतना और जन-मानस के एक नैतिक लंगर के रूप में हुआ। एक संगीतमय परम्परा उनके जीवन के प्रतिपादन की जो उनके जन्म से शुरू होते हुए, महाड़ में अपना रूप लेते हुए, पूना पैक्ट, गोल मेज़ सम्मलेन, संविधान, उनकी यादों को और उनकी कई विरासतों को सहेजने में अग्रणी रहे। इसी जन संगीत ने आगे चल के कलाकारों, चित्रकारों, लेखकों एवं मूर्तिकारों को प्रेरित किया और नतीजतन एक जीवंत प्रतिपादन का निर्माण हुआ जन-इतिहासकारों द्वारा - पुरष एवं महिलाएं, युवा एवं वृद्ध, जिन्होंने न्याय, समानता,स्वतंत्रतता एवं बंधत्व जैसे मूल्यों के एक कालीन बुनी।

wbm announcement

एक समाज जो हर मोड़ पे वंचित किया गया, उसी वंचित समुदायों ने बाबा साहब की मूर्तियों और प्रतिमाओं के द्वारा सामाजिक क्षेत्र पे अपना दावा पेश किया। क्या हम ये सोच भी सकते हैं कि बाबा साहब के चेतना की पतली सड़क के किनारों पे और व्यस्त बाज़ारों में भौतिक अभिव्यक्ति हुयी ?किसी ने या कुछ लोगों के समूह ने वक़्त निकाल कर और साधन उत्पन्न कर के उस स्थान पर और ऐसे ही लाखों स्थानों पर उनकी उपस्थिति दर्ज की।

वह कौन लोग थे ? किस चीज़ ने उनको प्रेरित किया ,कैसे उन्होंने उसकी रचना की , किनसे उन्होंने परामर्श किया, उसको बनने में कितना वक़्त लगा ,उसकी रचना कर के उन्हें कैसी अनुभूति हुयी ? वह यह कैसे सुनिश्चित करते हैं कि किसी भी प्रकार के संरक्षण के आभाव में वह वहां कैसे उपस्थित रहें?

हमें एक और सवाल पूछना होगा - वह प्रतिमाएं एक स्थान पर किसी के द्वारा या किसी समूह के द्वारा कल्पना कर के पूरा करने से पहले वहाँ क्यों नहीं थी ? क्या उस ख़ास सामाजिक खेत्र में उस प्रतिमा की स्वीकिृति प्रत्याशित थी या उन्हें वहां टकराव का सामना करना पड़ा?

कौन है वो बेनाम लोग जिन्होंने यादों को सहेजने की योजना पर काम किया जो इतनी विशाल, इतनी विविध, इतनी विस्तृत थी जिसकी किसी और जन प्रयत्न से तुलना नहीं की जा सकती। आइये उनका उत्सव मनाएं।

कहा जाता है- "इतिहास एक बार घटना के रूप में अस्तित्व में आया और अब एक पाठ है" । क्या होता है जब इतिहास घटना और पथ हो एक साथ? उसका महत्व और भी बढ़ जाता है जब ये घटनाएं और पाठ दोनों दमित के हकों में निहित हो और सभी तरह के दमन को नष्ट करने का नजरिया बन रही हो? और कैसे ये इतिहास जो की कुलीन-वर्ग जो की इतिहास लेखक भी है, उसका विरोधी है, अपने आप को बचा रहा हो - विलोपन, लापता और विनियोग से।

कौन हैं वह अज्ञात प्रकाशक, पुस्तक वितरक, सरकारी कर्मचारी, जिन्होंने अलग अलग स्तिथियों, भाषाओँ और साधनों में सार्वजनिक सेवा की भावना के साथ बाबासाहेब अम्बेडकर के शाब्दिक विरासत को जंजा और प्रसारित किया? क्यों उन्होंने कड़ी मेहनत से सुनिश्चित किया की देश भर में तमाम पिछड़े लोगों, अन्याय से लध रहे सेनानियों तक बाबासाहेब की विचारधारा पहुंचे? हमें इस शानदार उपलब्धि का सम्मान करते हैं।

हाल ही में एक व्याख्यान में, जी एलॉयसियस कहते हैं, "अगर आप एक ही शब्द में अम्बेडकर के जीवन का वर्णन करना चाहते हैं, तो अम्बेडकर एक डेमोक्रेट थे। सही मायनों में डेमोक्रेट। और अपनी व्यवस्था निति की सोच के अंत तक वह एक डेमोक्रेट बने रहे। आप कई अन्य छोटी-मोटी बातों में उन में गलती खोज सकते हैं, लेकिन वह हर पहलू से एक डेमोक्रेट थे। और उनके लिए लोकतंत्र का मतब था जाति व्यवस्था का निराकरण और जाति का नाश ही पहला कदम था। वह वहां ही नहीं रुकते, पर फ़िलहाल तो पहला कदम ही पूरा होता नहीं दिख रहा है बल्कि हम उलटी दिशा में वापिस जा रहे हैं।"

इस १२५ वीं सालगिरह, बाबासाहेब को याद करते हुए, हम सभी को उनके मूल्यों और आदर्शों के लिए प्रतिबद्ध होना चाहिए, और पूरी तरह से जाति व्यवस्था मिटा एक मानवीय समाज की नींव बनाने हेतु अपनी भूमिका को गले लगन चाहिए। हमें उनकी विरासत का जश्न मनाने और एक समान दुनिया के लिए मेहनत कर रहे कार्यकर्ता के रूप में उनके अनुयायियों में शामिल होना चाहिए।

द शेयर्ड मिरर बाबा साहेब अम्बेडकर की १२५ वीं सालगिरह के जश्न में लेखकों को "बाबासाहेब अम्बेडकर का मेरे जीवन में आशय" के ऊपर अपना निबंध भेजने के लिए आमंत्रित करता है। कृपया अपना लेख एक वर्ड डॉक्यूमेंट में अधिकतम 1500 शब्दों में लिख उसे This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it. पर भेजें, ईमेल का सब्जेक्ट लिखें: 'बाबासाहेब अम्बेडकर का मेरे जीवन में आशय" पर लेख'।

Translated by Kanika Sori and Shashwat Vikram

~~~

महिलाओं के उत्थान में बाबा साहब अम्बेडकर के योगदान को ध्यान में रखकर, बाबा साहब के इस जन्मोत्सव पर हमने बाबा साहब के जन्मदिन को कुछ अलग तरह से मनाने का निर्णय लिया है। बिना महिलाओं के योगदान के यह प्रयास अधूरा है । इसलिए "बाबा साहब अम्बेडकर मेरे लिए क्या मायने रखते हैं' शीर्षक पर महिला लेखकों के लेख आमन्त्रित हैं। जिसकी शब्द सीमा अधिकतम 1500 शब्द हैं । आप अपने लेख हमें This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it. पर भेजें । आपके लेखों और विचार का स्वागत है। धन्यवादl

Other Related Articles

Solidarity Statement by Dalit Penkoottam
Wednesday, 26 April 2017
  Dalit Penkoottam We strongly protest the verbal attacks directed at Pembilai Orumai* by the Minister of Electricity of the Pinarayi Vijayan government of Kerala and member of the Communist... Read More...
The landless will now receive no land
Saturday, 22 April 2017
  Santosh Kumar Thomas Isaac, the Finance minister of Kerala had declared in the budget that flats/apartments shall be constructed within a year and given to one lakh people in Kerala who do not... Read More...
A Discussion on Poetry Book 'Akash Nila Hai'
Thursday, 13 April 2017
  Kalyani The program was a book discussion of Bal Gangadhar ‘Bagi’s book “Akash Nila Hai”. The book is a collection of poetry which JNU Ph.D scholar Bal Gangadhar ‘Bagi’ has written... Read More...
Training School For Entrance To Politics - Admission Notification
Saturday, 08 April 2017
  Admission NotificationPOLITICAL SCHOOL BATCH 2017-18 One Year Residential Training for the Youths Interested in Politics TRAINING SCHOOLFOR ENTRANCE TO POLITICSJalandhar, Punjab (India) 60... Read More...
Vayalar Rebellion: A Rethought
Thursday, 23 March 2017
  Anilkumar PV There is no other grand claim about history as that of Hegel's inimitable remark: "God is God only in so far as he knows himself." It was Marx who liberated thought from the... Read More...

Recent Popular Articles

Dr. B. R. Ambedkar: His Economic Philosophy and State Socialism
Friday, 11 November 2016
  Adv. Mahendra Jadhav Abstract Dr. B. R. Ambedkar is undisputedly one of the greatest economists of all time. But unfortunately, his economic thoughts have not been read, followed or... Read More...
Dalit Upsurge and the Politics of Land – Chalo Thiruvananthapuram!
Monday, 07 November 2016
  S. Mrudaladevi The invader-friend can write or say anything about despotism, authoritarianism or anarchy experienced by the oppressed. It is part of his cunning effort to mask the exploitation... Read More...
Hatred in the belly: Interrogating Internalised Prejudices and Supremacy
Sunday, 04 December 2016
  Kavita Bhanot [Excerpts from the talks given at SOAS and Manchester launch of Hatred in the belly: The politics behind the appropriation of Dr Ambedkar's writings] For some years now, I've... Read More...
Brahminical Conversations on Dalit Politics
Sunday, 29 January 2017
  Koonal Duggal and Kavita Bhanot A poster was recently shared widely on social media advertising a panel discussion at the 2017 Delhi Book Fair, titled 'Contemporary Dalit Politics'. The event... Read More...
I am someone who thinks in an Ayyankali thought: Vinayakan, best actor
Sunday, 19 March 2017
  Dwija Aami and Sreerag Poickadan Malayalam actor Vinayakan has received the Kerala State government's Best Actor Award 2016 for the Malayalee film Kammatpadam, recently. His interview by... Read More...

Recent Articles in Hindi

पेरियार से हम क्या सीखें?

पेरियार से हम क्या सीखें?

  संजय जोठे  इस देश में भेदभाव और शोषण से भरी परम्पराओं का विरोध करने वाले अनेक विचारक और क्रांतिकारी हुए हैं जिनके बारे में हमें बार-बार पढ़ना और समझना चाहिए. दुर्भाग्य से इस देश के शोषक वर्गों के षड्यंत्र के कारण इन क्रांतिकारियों का जीवन परिचय और समग्र कर्तृत्व छुपाकर रखा जाता है. हमारी अनेकों पीढियां इसी षड्यंत्र में जीती आयीं हैं. किसी देश के उद्भट विचारकों और क्रान्तिकारियों को इस...

Read more

कृष्ण: भारतीय मर्द का एक आम चेहरा...!

कृष्ण: भारतीय मर्द का एक आम चेहरा...!

(कृष्ण की लोक लुभावन छवि का पुनर्पाठ!)मानुषी आखिर ये मिथकीय कहानियां किस तरह की परवरिश और शिक्षा देती हैं, जहां पुरुषों को सारे अधिकार हैं, चाहे वह स्त्री को अपमानित करे या दंडित, उसे स्त्री पलट कर कुछ नहीं कहती। फिर आज हम रोना रोते हैं कि हमारे बच्चे इतने हिंसक और कुंठित क्यों हो रहे हैं। सारा दोष हम इंटरनेट और टेलीविजन को देकर मुक्त होना चाहते हैं। जबकि स्त्री...

Read more

राष्ट्रवाद और देशभक्ति

राष्ट्रवाद और देशभक्ति

संजय जोठे धर्म जो काम शास्त्र लिखकर करता है वही काम राष्ट्र अब फ़िल्में और विडिओ गेम्स बनाकर बनाकर करते हैं. इसी के साथ सुविधाभोगी पीढ़ी को मौत से बचाने के लिए टेक्नालाजी पर भयानक खर्च भी करना पड़ता है ताकि दूर बैठकर ही देशों का सफाया किया जा सके, और यही असल में उस तथाकथित “स्पेस रिसर्च” और “अक्षय ऊर्जा की खोज” की मूल प्रेरणा है, यूं तो सबको...

Read more