त्यौहार

 

Vruttant Manwatkar

रसिक-रोमानी दिन है आएँ
हंगामे का 'फैशन' लाएँ.
"अभिव्यक्ति की आज़ादी दो!"
जीने का हक़ भाड़ में जाये.

क्रांति दम्भ में लाल जवानी
रंग, उत्सव में बदलती है.

savarna avarana women

आज भी जब जब चौराहे पर
अवर्ण औरत जलती है.

विषय-भोग की
भ्रांतियों का
मानव मन पर तगड़ा पहरा.
स्व-साहस झंखझोरता यहाँ
विषमता का रोग ये गहरा.

दमन से पीड़ित मनो-गुलामी
मद-धुएँ में मचलती है.

आज भी जब जब चौराहे पर
अवर्ण औरत जलती है.


फूको, रोजा, बोउवा भी
पिंजरा तोड़ के हर्षित उड़ते.
जले होलिका तो जलने दो
"बुरा ना मानो", नाच के कहते.

गर्वित-पंडित-प्रगतिवाद की
चमड़ी छल कि पिघलती है.

आज भी जब जब चौराहे पर
अवर्ण औरत जलती है.

शास्त्रों की कू-सत्ता बनी है
जातीवाद की मूँछे तनी है.
बंधुभाव की नींव गिराती
जड़े धरम की बड़ी घनी है.

सदा स्त्री-घातक हिन्दू संस्कृति
अपनी आग उगलती है.

आज भी जब जब चौराहे पर
अवर्ण औरत जलती है.

आज भी जब जब चौराहे पर
'बहुजन' औरत जलती है.

~~~

 

 Vruttant Manwatkar is a Research Scholar in Jawaharlal Nehru University, Delhi.

Cartoon by Unnamati Syama Sundar. 

Other Related Articles

Rohingyas and Origins of the Caste System
Sunday, 08 October 2017
Umar NizarHow foolish it would be to suppose that one only needs to point out this origin and this misty shroud of delusion in order to destroy the world that counts for real, so-called 'reality'. We... Read More...
The curious case of Indian psychoanalysis
Saturday, 11 February 2017
 Umar Nizar  Marxism has been critiqued variously for its occasional elitism and casteism. But the Freudian establishment in India, a flourishing one at that, has escaped criticism. Ashis... Read More...

Recent Popular Articles

Rohingyas and Origins of the Caste System
Sunday, 08 October 2017
Umar NizarHow foolish it would be to suppose that one only needs to point out this origin and this misty shroud of delusion in order to destroy the world that counts for real, so-called 'reality'. We... Read More...