त्यौहार

 

Vruttant Manwatkar

रसिक-रोमानी दिन है आएँ
हंगामे का 'फैशन' लाएँ.
"अभिव्यक्ति की आज़ादी दो!"
जीने का हक़ भाड़ में जाये.

क्रांति दम्भ में लाल जवानी
रंग, उत्सव में बदलती है.

savarna avarana women

आज भी जब जब चौराहे पर
अवर्ण औरत जलती है.

विषय-भोग की
भ्रांतियों का
मानव मन पर तगड़ा पहरा.
स्व-साहस झंखझोरता यहाँ
विषमता का रोग ये गहरा.

दमन से पीड़ित मनो-गुलामी
मद-धुएँ में मचलती है.

आज भी जब जब चौराहे पर
अवर्ण औरत जलती है.


फूको, रोजा, बोउवा भी
पिंजरा तोड़ के हर्षित उड़ते.
जले होलिका तो जलने दो
"बुरा ना मानो", नाच के कहते.

गर्वित-पंडित-प्रगतिवाद की
चमड़ी छल कि पिघलती है.

आज भी जब जब चौराहे पर
अवर्ण औरत जलती है.

शास्त्रों की कू-सत्ता बनी है
जातीवाद की मूँछे तनी है.
बंधुभाव की नींव गिराती
जड़े धरम की बड़ी घनी है.

सदा स्त्री-घातक हिन्दू संस्कृति
अपनी आग उगलती है.

आज भी जब जब चौराहे पर
अवर्ण औरत जलती है.

आज भी जब जब चौराहे पर
'बहुजन' औरत जलती है.

~~~

 

 Vruttant Manwatkar is a Research Scholar in Jawaharlal Nehru University, Delhi.

Cartoon by Unnamati Syama Sundar. 

Other Related Articles

राजस्थान में दलित महिला आंदोलन के नेतत्व व् न्याय प्रणाली की हकीकत पर एक नजर
Wednesday, 05 April 2017
सुमन देवाठीया मै किसी समुदाय की प्रगति हासिल की है, उससे मापता हु l~ डा0 भीमराव... Read More...
Statement by concerned Academics and Public Intellectuals following the Court Sentence on the EFLU Defamation case
Tuesday, 17 January 2017
  [via Susie Tharu] We the undersigned wish to express our grave concern over the fact that five senior students of the English and Foreign Languages University (EFLU), who were raising the... Read More...
Hatred in the belly: Speaking Truth to Power
Monday, 05 December 2016
  Sruthi Herbert  [Talk given at the Manchester Launch of Hatred in the belly: Politics Behind the Appropriation of Dr Ambedkar's Writings, held on October 6th, 2016] It's an honour to be... Read More...
The Janeyu in My News Story
Thursday, 01 December 2016
  Rahi Gaikwad Years ago, while studying journalism, a remark made by a foreign national classmate during a class discussion on caste has stuck in my mind till date. From what I remember, she... Read More...
Project Heartland 4: Milk and Caste
Tuesday, 22 November 2016
  Pratik Parmar Project Heartland captures the struggle of people from marginalised communities, mainly Dalits in Gujarat. It shows the courage and determination of Dalit women and men to assert... Read More...

Recent Popular Articles

The Janeyu in My News Story
Thursday, 01 December 2016
  Rahi Gaikwad Years ago, while studying journalism, a remark made by a foreign national classmate during a class discussion on caste has stuck in my mind till date. From what I remember, she... Read More...
Hatred in the belly: Speaking Truth to Power
Monday, 05 December 2016
  Sruthi Herbert  [Talk given at the Manchester Launch of Hatred in the belly: Politics Behind the Appropriation of Dr Ambedkar's Writings, held on October 6th, 2016] It's an honour to be... Read More...
राजस्थान में दलित महिला आंदोलन के नेतत्व व् न्याय प्रणाली की हकीकत पर एक नजर
Wednesday, 05 April 2017
सुमन देवाठीया मै किसी समुदाय की प्रगति हासिल की है, उससे मापता हु l~ डा0 भीमराव... Read More...

Recent Articles in Hindi

पेरियार से हम क्या सीखें?

पेरियार से हम क्या सीखें?

  संजय जोठे  इस देश में भेदभाव और शोषण से भरी परम्पराओं का विरोध करने वाले अनेक विचारक और क्रांतिकारी हुए हैं जिनके बारे में हमें बार-बार पढ़ना और समझना चाहिए. दुर्भाग्य से इस देश के शोषक वर्गों के षड्यंत्र के कारण इन क्रांतिकारियों का जीवन परिचय और समग्र कर्तृत्व छुपाकर रखा जाता है. हमारी अनेकों पीढियां इसी षड्यंत्र में जीती आयीं हैं. किसी देश के उद्भट विचारकों और क्रान्तिकारियों को इस...

Read more

कृष्ण: भारतीय मर्द का एक आम चेहरा...!

कृष्ण: भारतीय मर्द का एक आम चेहरा...!

(कृष्ण की लोक लुभावन छवि का पुनर्पाठ!)मानुषी आखिर ये मिथकीय कहानियां किस तरह की परवरिश और शिक्षा देती हैं, जहां पुरुषों को सारे अधिकार हैं, चाहे वह स्त्री को अपमानित करे या दंडित, उसे स्त्री पलट कर कुछ नहीं कहती। फिर आज हम रोना रोते हैं कि हमारे बच्चे इतने हिंसक और कुंठित क्यों हो रहे हैं। सारा दोष हम इंटरनेट और टेलीविजन को देकर मुक्त होना चाहते हैं। जबकि स्त्री...

Read more

राष्ट्रवाद और देशभक्ति

राष्ट्रवाद और देशभक्ति

संजय जोठे धर्म जो काम शास्त्र लिखकर करता है वही काम राष्ट्र अब फ़िल्में और विडिओ गेम्स बनाकर बनाकर करते हैं. इसी के साथ सुविधाभोगी पीढ़ी को मौत से बचाने के लिए टेक्नालाजी पर भयानक खर्च भी करना पड़ता है ताकि दूर बैठकर ही देशों का सफाया किया जा सके, और यही असल में उस तथाकथित “स्पेस रिसर्च” और “अक्षय ऊर्जा की खोज” की मूल प्रेरणा है, यूं तो सबको...

Read more