Interview with Prof Vivek Kumar on the Bahujan Movement

 

Round Table India

In this episode of the Ambedkar Age series, Round Table India talks to Prof Vivek Kumar, Professor, Centre for the Study of Social Systems, School of Social Sciences, Jawaharlal Nehru University (JNU), New Delhi.

Prof Vivek Kumar III

 In the interview, Prof Vivek Kumar touches upon a vast range of subjects, including the contours of Indian politics in the last four decades, the Bahujan movement, Dalit assertion and literature etc. He talks about the conceptualisation of the Bahujan Movement by Saheb Kanshi Ram, and its evolution and growth over the years. He also shares experiences from his own participation in the movement as a journalist, researcher, teacher, writer and public intellectual.

The interview was conducted by Kuffir along with Pushpendra Johar, a research scholar, and produced by Gurinder Azad.

In the Ambedkar Age series of videos, Round Table India aims to produce documentaries, interviews and talks on contemporary issues, and debates from a Dalit Bahujan perspective.

~~~

Other Related Articles

दलितों बहुजनों का बौद्ध धर्म स्वीकार और हिन्दू शुभचिंतकों की षड्यंत्रकारी सलाह
Wednesday, 24 May 2017
  संजय जोठे (Sanjay Jothe) सभी दलितों ओबीसी और आदिवासियों द्वारा बौद्ध धर्म अपनाने... Read More...
भारतीय सिनेमा का सुपरस्टार - जातिवाद और सामंतवाद का सहज उत्पाद
Monday, 22 May 2017
  संजय जोठे (Sanjay Jothe) विश्व सिनेमा में धाक जमाने वाले फ्रेंच निर्देशक गोडार्ड... Read More...
बुद्ध पूर्णिमा पर बुद्ध के दुश्मनों को पहचानिए
Tuesday, 09 May 2017
  संजय जोठे (Sanjay Jothe) बुद्ध पूर्णिमा के अवसर पर बुद्ध के सबसे पुराने और सबसे... Read More...
मैं परस्पर सम्मान या जन सम्मान की राजनीति के पक्ष में हूँ: अशोक भारती
Saturday, 06 May 2017
  संजय जोठे (Sanjay Jothe) अशोक भारती, संक्षिप्त परिचय: अशोक भारती नेशनल कन्फेडरेशन... Read More...
भारतीय शास्त्रीय कलाएं और सामाजिक सरोकार
Saturday, 29 April 2017
  संजय जोठे (Sanjay Jothe) भारतीय कलाकारों, खिलाड़ियों, गायकों नृत्यकारों के... Read More...

Recent Popular Articles

Interview with Prof Vivek Kumar on the Bahujan Movement
Monday, 13 March 2017
  Round Table India In this episode of the Ambedkar Age series, Round Table India talks to Prof Vivek Kumar, Professor, Centre for the Study of Social Systems, School of Social Sciences,... Read More...
हिन्दू भगवानो को परेशान मत कीजिये, रविदास बुद्ध कबीर से मार्गदर्शन लीजिये
Friday, 24 February 2017
  Sanjay Jothe परम संत रविदास का नाम ही एक अमृत की बूँद के जैसा है. जैसे भेदभाव,... Read More...
Maratha Kranti (Muk) Morcha: When will Maratha women cross the threshold?
Friday, 20 January 2017
Sandhya Gawali Maratha Community has been organizing massive silent rallies (muk morcha) in various districts in a strong display of restlessness. The immediate reason behind the march is the brutal... Read More...
रोमांच, मनोरंजन और ब्राह्मणवादी प्रतीक
Thursday, 09 February 2017
  Sanjay Jothe रहस्य रोमांच के बहाने मनोरंजन की तलाश करते समाजों या लोगों पर कभी... Read More...
भारतीय साहित्य, सिनेमा और खेल की सामाजिक नैतिकता का प्रश्न
Friday, 03 February 2017
  Sanjay Jothe  कला और सृजन के आयामों में एक जैसा भाईचारा होना चाहिए जो कि भारत में... Read More...

Recent Articles in Hindi

पेरियार से हम क्या सीखें?

पेरियार से हम क्या सीखें?

  संजय जोठे  इस देश में भेदभाव और शोषण से भरी परम्पराओं का विरोध करने वाले अनेक विचारक और क्रांतिकारी हुए हैं जिनके बारे में हमें बार-बार पढ़ना और समझना चाहिए. दुर्भाग्य से इस देश के शोषक वर्गों के षड्यंत्र के कारण इन क्रांतिकारियों का जीवन परिचय और समग्र कर्तृत्व छुपाकर रखा जाता है. हमारी अनेकों पीढियां इसी षड्यंत्र में जीती आयीं हैं. किसी देश के उद्भट विचारकों और क्रान्तिकारियों को इस...

Read more

कृष्ण: भारतीय मर्द का एक आम चेहरा...!

कृष्ण: भारतीय मर्द का एक आम चेहरा...!

(कृष्ण की लोक लुभावन छवि का पुनर्पाठ!)मानुषी आखिर ये मिथकीय कहानियां किस तरह की परवरिश और शिक्षा देती हैं, जहां पुरुषों को सारे अधिकार हैं, चाहे वह स्त्री को अपमानित करे या दंडित, उसे स्त्री पलट कर कुछ नहीं कहती। फिर आज हम रोना रोते हैं कि हमारे बच्चे इतने हिंसक और कुंठित क्यों हो रहे हैं। सारा दोष हम इंटरनेट और टेलीविजन को देकर मुक्त होना चाहते हैं। जबकि स्त्री...

Read more

राष्ट्रवाद और देशभक्ति

राष्ट्रवाद और देशभक्ति

संजय जोठे धर्म जो काम शास्त्र लिखकर करता है वही काम राष्ट्र अब फ़िल्में और विडिओ गेम्स बनाकर बनाकर करते हैं. इसी के साथ सुविधाभोगी पीढ़ी को मौत से बचाने के लिए टेक्नालाजी पर भयानक खर्च भी करना पड़ता है ताकि दूर बैठकर ही देशों का सफाया किया जा सके, और यही असल में उस तथाकथित “स्पेस रिसर्च” और “अक्षय ऊर्जा की खोज” की मूल प्रेरणा है, यूं तो सबको...

Read more