"भीम आर्मी" का प्रदर्शन: मीडिया का मुंडन

 

सुरेश जोगेश (Suresh Jogesh)

सुबह से भीड़ जमा होनी शुरू हो गयी थी जंतर-मंतर पर. देखते ही देखते आसमान का रंग जमीन ओढ़ने लगी थी. वही आलम सोशल मीडिया का भी था. हर ओर नीला ही नीला. मुख्यधारा मीडिया का काम इस बार सोशल मीडिया बखूबी निभा रहा था. जो तस्वीरें आती रही उनमें फ्रांस, अमेरिकन और जर्मनी के कुछ पत्रकार कैमरा और माइक के साथ थे पर दिलचस्प बात यह रही कि भारतीय मीडिया घरानों के दिल्ली के दफ्तरों में बैठे संवाददाताओं और एंकरों ने बाहर निकलने की जहमत नही उठायी. एक-दो नही, लगभग सभी. हालांकि इस बात की पहले से ही प्रबल उम्मीद थी. भारतीय मीडिया के 180 देशों के मीडिया में 136 वें नंबर होने के प्रमुख कारण को यहां साफ देखा जा सकता था. जो मीडिया दबे-कुचलों, शोषितों की आवाज नही बन सकती, शोषक जाति से सवाल नही कर सकती. जिस पर सिर्फ अप्पर कास्ट का एकाधिकार है. जो निष्पक्षता और न्याय की जगह राष्ट्रवाद और धार्मिकता को पैमाना मानता है उसके 180 वें नंबर होने पर भी भला कोई सवाल हो सकता है क्या?

Talk on Bheem army on NDTV

पेश है जंतर-मंतर पर भीम आर्मी के प्रदर्शन की कवरेज पर खाश रिपोर्ट:

  1. Indian Express में 3-4 आर्टिकल छपे है. जिसमे एक भीम आर्मी से परिचय करवाता है तो शेष 2-3 कल के कार्यक्रम की मुख्य बातों को लेकर. अखबार के दिल्ली संस्करण ने मुख्य पृष्ठ पर कुछ जगह दी है. वहीं हिंदी संस्करण (जनसत्ता) की बात करें तो दो आलेख छपे हैं, 5000(?) की भीड़ का दावा किया गया. एक आलेख इनपुट IANS से बताता है. दूसरी ओर अखबार के दिल्ली संस्करण के मुख्य पेज से यह खबर गायब है. मुख्य पेज पर आईपीएल और भागवत गीता की पढ़ाई को जगह दी गयी है.
  2.  NDTV ने इस पर 2 आर्टिकल किये हैं. एक शॉर्ट आर्टिकल हिंदी व एक अंग्रेजी में. जिसके लिए इनपुट PTI से लिया गया है. NDTV लिखता है कि सहारनपुर हिंसा के विरुद्ध यहां लगभग 5 हजार लोगों प्रदर्शन किया. चंद्रशेखर पर दर्ज मुकदमे वापस लेने के लिए आवाज उठाई गई. कुल मिलाकर कुछ खाश कवरेज नही है NDTV जैसे चैनल के लिए. टीवी कार्यक्रम में NDTV संवाददाता और एंकर दोनों ने ही एक ओर जहां चर्चा बसपा के संभावित विकल्प बताने वाली बात को हाईलाइट करके शुरू की तो दूसरी ओर दलितों के पोस्टर को लेकर कहा कि, देखिए, हिंसा इस तरह से भड़काई जाती है. पोस्टर चंद्रशेखर के खिलाफ कार्यवाही के विरुद्ध चेतावनी को लेकर था, वहीं पुलिस के सामने तलवारें लहराते राजपूत युवकों की वायरल हुई तस्वीरें गायब दिखी, सहारनपुर की इस घटना को शुरू से दिखाया गया है फिर भी. भीम आर्मी खुद यहां सवालों के घेरे में दिखी. कभी राजपूत युवक की मौत (पोस्टमॉर्टेम के अनुसार दम घुटने से) को लेकर तो कभी अत्याचार के आरोपों की सत्यता को लेकर. स्क्रीन काली करके खुद को निस्पक्ष दिखाने वाले चैनल का अपना कवरेज उतना निस्पक्ष नही दिखा. यहां भी 5 हजार की भीड़ बताई गई है.(Ref: https://youtu.be/IO79pMp7JCA)
  3. टाइम्स ग्रुप (TOI, NBT etc): टाइम्स ऑफ इंडिया, नवभारत टाइम्स व इकनोमिक टाइम्स सभी ने इसे मुख्य पेज की खबर नही माना है. इलेक्ट्रॉनिक माध्यम की बात की जाय तो TOI ने 50 हजार से ज्यादा की भीड़ का दावा किया है. दो आलेख छपे हैं, TNN से इनपुट के आधार पर. ग्राउंड रिपोर्टिंग नही है. नवभारत टाइम्स ने भी दो आर्टिकल डाले हैं.
  4. बीबीसी ने 4-5 आलेख लिखे है. प्रदर्शन की कवरेज व भीम आर्मी से परिचय पर. कुल मिलाकर कवरेज उम्मीदनुसार रहा है. बीबीसी ने भारतीय मीडिया की बेरुखी और असंवेदनशीलता पर सवाल उठाने के साथ भीड़ को कम बताने का भी आरोप लगाया है. बीबीसी के अनुसार भारतीय मीडिया के बड़े घरानों ने भी इसे 5-10-15 हजार का आंकड़ा बताया है जबकि भीड़ इससे कहीं ज्यादा थी.
  5.  इंडिया टुडे ने जहां इस पर पर 2 आर्टिकल डाले हैं इसके हिंदी सहयोगी चैनल आज तक से यह खबर गायब ही दिखी जिसे अपेक्षाकृत ज्यादा पढ़ा/देखा जाता है.
  6. The Hindu ने भी बड़ी खबर की तरह कवर नही किया है, भीड़ को कम आंकने की कोशिश की है. मुख्य पृष्ठ से यह खबर गायब दिखी.
  7. Altnews (प्रतीक सिन्हा) पूरी तरह से अछूता है इस विशाल प्रदर्शन से.
  8. Bhaskar ने इसे ज्यादा तवज्जो नही दी है. दिल्ली संस्करण के मुख्य पृष्ठ से भी गायब है खबर. पेज नंबर 4 पर एक तस्वीर के साथ एक कॉलम में किसी तरह निपटाया गया है।
  9. Jagran ने पेज नंबर 7 पर दो कॉलम की फोटो समेत खबर दी है। बताया गया है कि दो समुदायों के बीच हिंसा हुई थी।
  10.  अमर उजाला में भी पेज नंबर 7 पर एक खबर है, फोटो समेत तीन कॉलम। लेकिन कोई विश्लेषण नहीं। पुलिस की इजाज़त बग़ैर हुआ प्रदर्शन, इस पर ज़ोर है।
  11. Patrika: आरक्षण विरोधी और संविधान की "धर्म निरपेक्ष" नीति से नाखुश गुलाब कोठारी के अखबार पत्रिका ने पेज नंबर 14 पर एक तस्वीर के साथ एक कॉलम की ख़बर छापकर ख़ानापूर्ति कर ली है।

भीम आर्मी के ऐतिहासिक प्रदर्शन को लेकर ख़ासतौर से हिंदी अख़बारों और चैनलों की यह उपेक्षा बहुत कुछ कहती है। यह संयोग नहीं कि तमाम दलित नौजवान अब 'अपने' मीडिया की बात ज़ोर-शोर से कर रहे हैं। कथित मुख्यधारा का कारोबारी मीडिया, उनका नहीं है, यह बात साफ़ हो चुकी है।

~~~

 

Suresh Jogesh is a student at IIT Roorkee and a social activist. He can be reached at This email address is being protected from spambots. You need JavaScript enabled to view it.

Other Related Articles

Mahatma Phule's Thoughts on Caste-Patriarchy: A Critical Evaluation
Thursday, 16 November 2017
  Sachin Garud It is a well-known fact that at the time of India's national movement, there was another movement known as the movement of social engineering or social revolution, led by Mahatma... Read More...
Dalit Women Speak Out- A Conference
Monday, 30 October 2017
  Asha Kowtal The swift changes in the political landscape and the challenges faced by women human rights defenders often pushes us Dalit women into a vortex of greater insecurity, fear and... Read More...
Hindu festivals and Buddhist converts
Monday, 23 October 2017
  Deekshit इसको भरनेवाले जन कोसर्वस्व-समर्पण करना है।अपना तन-मन-धन-जन-जीवनमाता... Read More...
For a fistful of self-respect: Organised secular and religious ideologies and emancipatory struggles
Wednesday, 27 September 2017
Round Table India We are happy to announce the first of a series of conversations between participants and stakeholders in emancipatory struggles of Annihilation of Caste and Racial Inequality. ... Read More...
Why are the Debates on Menstrual Taboo One-sided?
Friday, 15 September 2017
   T. Sowjanya In a nutshell, the answer is, the views expressed in the online protests are of women belonging to a particular set of social groups! This is a response to the recent online... Read More...

Recent Popular Articles

Cow, ‘backwardness’ and ‘Bahujan’ Women
Monday, 10 July 2017
  Asha Singh  My Ahir-dominant village in Bhojpur district of Bihar has a school only up to standard seven. After the seventh grade, if somebody (or their family) decides to study further,... Read More...
Understanding the Intersections of Gender and Caste Discrimination in India
Wednesday, 07 June 2017
  Kamna Sagar The caste framework in India has stood out as the biggest element of social stratifications. Caste, class and gender are indistinguishably associated, they speak with and overlap... Read More...
Crossing Caste Boundaries: Bahujan Representation in the Indian Women’s Cricket Team
Monday, 31 July 2017
Sukanya Shantha Early this month, union minister Ramdas Athawale made a statement demanding 25 per cent1 reservation for the Dalit and Adivasi community in the Indian men's cricket team. His demand,... Read More...
Toilet: Ek Prem Katha - Women's Liberation through the Manusmriti?
Sunday, 20 August 2017
  Obed Manwatkar Toilet: Ek Prem Katha is a movie produced by Reliance Entertainment owned by Mr. Ambani, one of the main corporate sponsors of Prime Minister Narendra Modi. The theme of the... Read More...
Ravidas, Thakur arrogance, and the Double Game
Wednesday, 31 May 2017
  Mangesh Dahiwale Judging by the influence and popularity of Ravidas, he was perhaps India's most influential saint-revolutionary. He stood for the annihilation of caste and his impact reached... Read More...