10 lakh Dalits gather for Ambedkar's death Aniversery in Mumbai

7168
Created by admin
Created on 06 December 2011

Description

JAI BHIM... Mumbai: Free lunch, medical camps and even television for some evening entertainment — on December 6, all roads lead to the Chaityabhoomi. A few metres away from the colourful gathering is Dr Babasaheb Ambedkar's shrine, a place of worship for the lakhs of Dalits who converge in Mumbai every year. Ashok, an Ambedkar follower says, "We come here to seek Babasaheb's blessings on this day." In the last few days, over 5 lakh Ambedkar followers have gathered at Dadar's Shivaji Park and the numbers will soar as Dalits from across the state converge here to pay homage to their leader on his 51st death anniversary. And for first-timers like Sulekha Jagtap from Yavatmal in Maharashtra, this gathering is a time to assert their identity. "Ambedkar did a lot for us, so we come here to pay homage to him," says Sulekha. Authorities have made arrangements on a massive scale for the lakhs of followers who have gathered here. With CCTVs and a highly visible police presence, for authorities, providing facilities for this large congregation is an exercise in management and logistics, a challenge they are gearing up for. Mumbai's mayor, Shubha Raul says, "This year, we have arranged fire brigades, mobile toilets and drinking water for all the people who come to the shrine to pay their respects." For the average Mumbaikar, December 6 could mean traffic diversions, but for ardent Ambedkar supporters, it's their chance to take the annual pilgrimage route that leads up to the Chaityabhoomi. Be happy! Siddhartha Chabukswar

Tags

Associations

Activity

Back to Top

Recent Articles in Hindi

पेरियार से हम क्या सीखें?

पेरियार से हम क्या सीखें?

  संजय जोठे  इस देश में भेदभाव और शोषण से भरी परम्पराओं का विरोध करने वाले अनेक विचारक और क्रांतिकारी हुए हैं जिनके बारे में हमें बार-बार पढ़ना और समझना चाहिए. दुर्भाग्य से इस देश के शोषक वर्गों के षड्यंत्र के कारण इन क्रांतिकारियों का जीवन परिचय और समग्र कर्तृत्व छुपाकर रखा जाता है. हमारी अनेकों पीढियां इसी षड्यंत्र में जीती आयीं हैं. किसी देश के उद्भट विचारकों और क्रान्तिकारियों को इस...

Read more

कृष्ण: भारतीय मर्द का एक आम चेहरा...!

कृष्ण: भारतीय मर्द का एक आम चेहरा...!

(कृष्ण की लोक लुभावन छवि का पुनर्पाठ!)मानुषी आखिर ये मिथकीय कहानियां किस तरह की परवरिश और शिक्षा देती हैं, जहां पुरुषों को सारे अधिकार हैं, चाहे वह स्त्री को अपमानित करे या दंडित, उसे स्त्री पलट कर कुछ नहीं कहती। फिर आज हम रोना रोते हैं कि हमारे बच्चे इतने हिंसक और कुंठित क्यों हो रहे हैं। सारा दोष हम इंटरनेट और टेलीविजन को देकर मुक्त होना चाहते हैं। जबकि स्त्री...

Read more

राष्ट्रवाद और देशभक्ति

राष्ट्रवाद और देशभक्ति

संजय जोठे धर्म जो काम शास्त्र लिखकर करता है वही काम राष्ट्र अब फ़िल्में और विडिओ गेम्स बनाकर बनाकर करते हैं. इसी के साथ सुविधाभोगी पीढ़ी को मौत से बचाने के लिए टेक्नालाजी पर भयानक खर्च भी करना पड़ता है ताकि दूर बैठकर ही देशों का सफाया किया जा सके, और यही असल में उस तथाकथित “स्पेस रिसर्च” और “अक्षय ऊर्जा की खोज” की मूल प्रेरणा है, यूं तो सबको...

Read more